Silver Jubilee Year Celebration at Ladnun

विश्वस्तर पर जैन विश्वभारती संस्थान ने किया मूल्यपरक शिक्षा का प्रसार-डॉ संचेती

लाडनूं 20 मार्च

जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय के दो दिवसीय रजत जयंती समारोह का शुभारम्भ शुक्रवार को सुधर्मा सभा में तेरापंथ धर्मसंघ के मुनि सुखलाल के सान्निध्य में समारोह पूर्वक हुआ। समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि पूना के संचेती इन्स्टीट्युट फॉर आर्थोपेडिक्स एण्ड रिहेबिलिटेशन के संस्थापक पदमश्री, पदम विभूषण डॉ के एच संचेती ने कहा कि जैन विश्वभारती संस्थान ने मूल्यपरक शिक्षा के क्षेत्र में देश ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्वस्तर पर महत्वपूर्ण कार्य किया है। आज जैन विश्वभारती संस्थान मूल्य परक शिक्षा का पर्याय बन गया है। इस संस्थान द्वारा दी जाने वाली शिक्षा मानव निर्माण एवं विकास के लिए जरूरी है। आज के दौर में बढ रही स्वार्थ वृत्ति को तोडनें में यहां की शिक्षा उपयोगी साबित हो रही है। डॉ संचेती ने अहिंसा एवं मूल्यों की शिक्षा को जरूरी बताते हुुए जीवन में अपनाने का आह्वान किया।

समारोह के मुख्य वक्ता राजस्थान पत्रिका के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी ने अहिंसा को जीवन निर्माण का मूल तत्व बताते हुए कहा कि अहिंसक चेतना के विकास एवं मानवीय मूल्यों के प्रति आस्था से ही स्वस्थ व्यक्तिव का निर्माण किया जा सकता है। उन्होनें कहा कि आस्था के साथ संस्कारपरक शिक्षा ग्रहण करना एक व्यक्ति का दायित्व होना चाहिए। जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय की शिक्षा को मानव निर्माण की शिक्षा बताते हुए विश्वविद्यालय द्वारा अहिंसा एवं शांति के क्षेत्र में किया जा रहा कार्य उल्लेखनीय बताया। समारोह के विशिष्ट अतिथि रिपब्लिक ऑफ यूनियन ऑफ कॉमरोस इन इण्डिया के कोन्सुल जनरल के एल गंजू ने कहा कि वर्तमान दौर में इंसानियत की शिक्षा की जरूरत बताते हुए जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय को इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य करने का आह्वान किया। समारोह के विशिष्ट अतिथि मुंबई अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष एस के जैन ने कहा मानव निर्माण के लिए जीवनोपयोगी शिक्षा को जरूरी बताया। इस अवसर पर जैन विश्वभारती के अध्यक्ष धर्मचन्द लूंकड एवं कुलपति बच्छराज नाहटा ने भी अपने विचार रखे।

इससे पूर्व कुलपति समणी चारित्रप्रज्ञा ने विश्वविद्यालय की गतिविधियों को रेखांकित करते हुए विश्वविद्यालय की गति-प्रगति पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर एल्युमिनि डॉ आलम अली सिसोदिया, डॉ मीना शर्मा आदि ने अपने अनुभव प्रस्तुत किये। इस अवसर पर अनुशास्ता आचार्य श्री महाश्रमण के संदेश का वाचन किया गया। डॉ जुगलकिशोर दाधीच ने अतिथियों का परिचय प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में संस्थान के पूर्व कुलाधिपति, कुलपति सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संयोजन समणी रोहिणी प्रज्ञा एवं अदिति सेखानी द्वारा किया गया। आभार ज्ञापन विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ अनिलधर ने व्यक्त किया।

भवनों का हुआ लोकार्पण-इस अवसर पर दोपहर ढाई बजे से परिसर में नवनिर्मित सत्कार (जलपान गृह) का लोकार्पण विधायक मनोहर सिंह की अध्यक्षता में समाजसेवी राकेश कुमार कठोतिया द्वारा किया गया। इसी प्रकार भगवान महावीर इंटरनेशलन सेंटर फॉर सांइटिफिक रिसर्च एण्ड सोशल इनोवेटिव स्टडिज का उद्घाटन जिला कलेक्टर राजन विशाल की अध्यक्षता में समाजसेवी देवराज मूलचन्द नाहर द्वारा किया गया। इस अवसर पर जैन दर्शन से संबधित डॉक्युमेन्टरी फिल्म भी दिखायी गई।

अक्षर युग का विमोचन- जैन विश्वभारती संस्थान के रजत जयंती समारोह के अवसर पर प्रकाशित पुस्तक अक्षर युग का विमोचन अतिथियों द्वारा किया गया। इस अवसर पर अनेक पुस्तकों का विमोचन भी अतिथियों द्वारा किया गया। डॉ आनन्दप्रकाश त्रिपाठी ने पुस्तक के बारे में अपने विचार रखे।

प्रतियोगिता के विजेताओं का सम्मान-जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय के दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के तत्वावधान में आयोजित आचार्य तुलसी और अणुव्रत आंदोलन विषयक राष्ट्रीय निबन्ध लेखन प्रतियोगिता के विजेताओं को रजत जयंती समारोह में नागौर सांसद सीआर चौधरी के मुख्य आथित्य में आयोजित समारोह में जैन विश्वभारती विश्वद्याालय के कुलाधिपति बी आर भण्डारी एवं कुलपति समणी चारित्रप्रज्ञा द्वारा सम्मानित किया गया। प्रथम पुरस्कार गुवाहाटी की श्रीमती कविता बांठिया को द्वितीय पुरस्कार अरिहंत भूतोडिया लाडनूं एवं तृतीय पुरस्कार डॉ वीरेन्द्र भाटी मंगल को प्रदान किया गया। इस अवसर पर दो प्रोत्साहन पुरस्कार क्रमश: जोधपुर की जसवंत कंवर एवं प्रियंका प्रजापत को प्रदान किया गया। पुरस्कार स्वरूप प्रशस्ति पत्र एवं क्रमश: इक्कतीस सौ रूपये, इक्कीस सौ रूपये एवं ११ सौ रूपये एवं प्रोत्साहन पुरस्कार स्वरूप ५००-५०० रूपये नकद प्रदान किये गये।

हमारी बात-आपके साथ-जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्षों के साथ राकेश खटेड के संयोजन में हमारी-आपके साथ विषयक परिचर्चा का आयोजन किया गया। संस्थान के सभी विभागाध्यक्षों ने रोचक अंदाज में सभी विभागों की गतिविधियों से अवगत करवाया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम-विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। इस कार्यक्रम में विद्यार्थियों द्वारा नृत्य, सामूहिक नृत्य, माईम, नाटक, गीत, कविता, एकांकी आदि के मनोरंजक कार्यक्रम आयोजित किये गये। इस अवसर पर संस्थान के जीवन विज्ञान, प्रेक्षाध्यान एवं योग विभाग के विद्यार्थियों द्वारा योग का प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम प्रभारी डॉ अमिता जैन ने बताया कि कार्यक्रम का संयोजन डॉ विवेक माहेश्वरी एवं डॉ तृप्ति जैन ने किया। शैलेष लोढा ने खूब हंसाया- सुधर्मा सभा में आयोजित मनोरंजक कार्यक्रम में सुप्रसिद्व टीवी फेम शैलेष लोढा ने अपनी कविताओं के माध्यम से श्रोताओं को देर तक हंसने पर मजबूर किया। कार्यक्रम में कवि दिनेश दिगज उज्जैन, प्रदीप भोला, संजय झाला एवं अब्दुल गफार ने भी अपनी हास्य कविताओं से दर्शकों का मनोरंजन किया।

२१ मार्च

प्रात: ८ बजे से स्थानीय सुख आश्रम, बस स्टेण्ड से सौहाद्र्व गमन एवं स्वच्छता रैली का आयोजन भव्य स्तर पर किया गया। रैली में लाडनूं नगर एवं आसपास क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं लोगों ने भाग लिया। कार्यक्रम का शुभारम्भ कुलपति समणी चारित्रप्रज्ञा द्वारा प्रस्तुत मंगलपाठ से हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक रामकुमार कस्बा ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। कार्यक्रम में स्थानीय प्रशासन, नगर पालिका, भारत विकास परिषद एवं स्कूलों का विशेष योगदान रहा। रैली में एसडीएम मुरारीलाल शर्मा, जैन विश्वभारती के अध्यक्ष एवं रजत जयंती समारोह के मुख्य संयोजक डॉ धर्मचन्द लूंकड सहित जैन विश्वभारती एवं संस्थान के पदाधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। रैली में क्षेत्र के १३ स्कूलों के करीब २००० विद्यार्थियों ने भाग लिया। रैली के संयोजक डॉ संजय गोयल ने बताया कि रैली में भाग लेने वाले विद्यालयों में प्रथम स्थान पर केशरदेवी उमावि द्वितीय स्थान पर मौलाना आजाद उमावि एवं तृतीय स्थान पर ज्ञान कुटीर माध्यमिक विद्यालय ने प्राप्त किया। जिन्हें क्रमश: इक्कावन सौ रूपये, ३१०० सौ रूपये एवं २१०० सौ रूपये प्रदान कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर संस्थान के जनसम्पर्क समन्वयक डॉ वीरेन्द्र भाटी मंगल द्वारा रैली में किया गया आंखो देखा हाल विवरण को सभी ने सराहा।

इन्द्रधुनषी मेला- संस्थान द्वारा इन्द्रधनुषी मेले के अन्तर्गत विद्यार्थियों द्वारा खान-पान एवं मनोरंजन संबंधी स्टॉल के साथ संस्थान के सभी विभागों की गतिविधियों एवं प्रचार के लिए स्टॉल लगाये गये।

रंगारंग प्रस्तुतियां-राजस्थान संगीत नाटक अकादमी के तत्वावधान में राजस्थान के लोक कलाकारों द्वारा राजस्थानी लोक नृत्य एवं लोक गीत का शानदार प्रदर्शन किया गया। उपस्थित सभी लोगों ने इस कार्यक्रम को यूनिक बताया।

टॉक शॉ-जूनून जंग और जीत की कहानी विषयक इस टॉक शॉ में देश के प्रख्यात व्यक्तिव सुपर-३० के आनन्द कुमार, मीडिया पर्सन श्रीमती मीना शर्मा, सुश्री सारिका जैन आई आर एस और सुश्री नेहा जैन आईएएस ने अपनी संघर्ष की कहानी को साझा किया। कार्यक्रम में राकेश खटेड का विशेष सहयोग रहा।

समापन समारोह-रजत जयंती समारोह का समापन समारोह नागौर सांसद सीआर चौधरी की अध्यक्षता में समारोह पूर्वक किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य संयोजक धर्मचन्द लूंकड, कुलाधिपति बीआर भण्डारी एवं जैन विश्वभारती के कुलपति बच्छराज नाहटा ने संस्थान के सहयोगी दानदाताओं एवं भामाशाह का सम्मान किया गया। इस अवसर पर खेलकूद एवं सांस्कृतिक गतिविधियों में श्रेष्ठ रहने वाले विद्यार्थियों का सम्मान किया गया। कार्यक्र्रम में वरिष्ठ विद्यावारिधी के रूप में प्रो अनिलधर एवं कनिष्ठ विद्यावारिधी सम्मान से डॉ अमिता जैन को सम्मानित किया गया। श्रेष्ठ स्टाँफ सदस्य के लिए विनोद कुमार एवं शरद जैन को सम्मानित किया गया।

Read 1324 times

Latest from