‘‘प्री-मेरिज काॅउन्सिल’’ विषयक व्याख्यान का आयोजन

सहनशीलता सुखी दाम्पत्य जीवन का आधार - डाॅ. सुधा जैन

लाडनूँ, 31 जुलाई, 2017। आधुनिक जीवनशैली में निरन्तर विकसित हो रहे एकल परिवार में प्रतिपल असहनशीलता, अहं तथा एकाकी अस्तित्व वाले विचारों के कारण दाम्पत्य जीवन में सुख-शांति का अभाव परिलक्षित हो रहा है। ये विचार दिल्ली से पधारी डाॅ. सुधा जैन एडवोकेट ने जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय के जैनविद्या एवं तुलनात्मक धर्म तथा दर्शन विभाग द्वारा आयोजित ‘‘प्री मेरिज काॅउन्सिल’’ विषयक व्याख्यान में प्रकट किये। उन्होंने कहा कि आज की एकाकी एवं व्यस्ततम दिनचर्या के कारण परस्पर में सहयोग एवं विचारों के आदान-प्रदान के अभाव में प्रत्येक मनुष्य बहुत प्रयास करने पर भी उस प्रतिफल को प्राप्त नहीं कर पा रहा है जो उसे प्राप्त होना चाहिए था। आप विवाह से पूर्व वैवाहिक जीवन के संदर्भ में क्या-क्या जानना आवश्यक है? इस सन्दर्भ में अपना व्याख्यान दे रहीं थीं। आपने अपने तीस वर्ष के वकालत के कार्यकाल में सैकड़ों दम्पत्तियों को परस्पर में हो रहे क्लेश एवं संघर्ष से होने वाले नुकसान को बताकर उन्हें पुनः वैवाहिक जीवन में प्रवेश कराया है। आपने बताया कि आज के युवाओं में चाहे वह लड़का हो या लड़की सभी में मानवीय जीवन-मूल्य, यथा-सहनशीलता, समन्वय, सामंजस्य का अभाव होने के कारण एकल परिवार की प्रवृत्ति बढ़ रही है। युवाओं में विलासितापूर्ण जीवन के प्रति आसक्ति एवं वृद्धों में असुरक्षा के कारण परिवार को घरेलू हिंसा का क्षेत्र बनाया जा रहा है। पति-पत्नी के आपसी झगड़ों के कारण बच्चों का जीवन अंधकारमय बन रहा है। सह-अस्तित्त्व, समन्वय, सहनशीलता, समानता, आवश्यकता का चयन, अधिकार और कत्र्तव्य में समन्वय, अपने स्वतंत्र अस्तित्व का ज्ञान तथा अच्छी आदतों के विकास से सभी प्रकार के पारिवारिक संघर्षों को दूर किया जा सकता है। आज यदि ‘मैं’ और ‘तुम’ मिलकर ‘हम’ बन जायें तो ही परिवार का विकास संभव है तथा यदि ‘मैं’ मैं ही रहूं तथा तुम ‘तुम’ रहो तो विकास के स्थान पर पतन ही होता है। प्राचीन काल में परिवार में मुखिया होता था तथा वह ही परिवार के नये सदस्य को चाहे वह बहू हो या अन्य सभी को परिवार, समाज, धर्म, जाति आदि अपनी संस्कृति की जानकारी देता था तथा यह परम्परा निरन्तर चलती थी। आज एकल परिवार में मुखिया के अभाव में सांस्कृतिक ह्रास भी देखा जा रहा है। आज व्यक्ति केवल अपनी तरक्की में दूसरे को नीचे गिराने का प्रयास कर रहा है परन्तु मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि अकेला व्यक्ति तेज तो चल सकता है परन्तु मंजिल तक नहीं पहुंच सकता है। मंजिल के लिए अन्य का साथ आवश्यक है तथा जब सबका साथ होगा तो विकास भी सभी का होगा। इन समस्त प्रयासों की शुरुआत सबसे पहले हमें स्वयं ही करनी होगी क्योंकि जब व्यक्ति स्वयं सुधरता है तो समाज एवं राष्ट्र स्वयं समृद्ध होता है। इससे पूर्व दूरस्थ शिक्षा विभाग के निदेशक प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने समागत अतिथियों को साहित्य भेंट कर सम्मानित किया तथा विभाग की विभागाध्यक्षा प्रो. समणी ऋजुप्रज्ञा ने अतिथियों का स्वागत एवं परिचय प्रदान किया। कार्यक्रम का संचालन विभाग के सहायक आचार्य डाॅ. योगेश कुमार जैन ने किया।

Read 209 times

Latest from