Print this page

आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में कॅरियर परामर्श व्याख्यान

शांतचित्त एवं सहज होकर परीक्षा दें - प्रो. आर.एस.यादव

लाडनूँ, 27 नवम्बर, 2017। जैन विश्वभारती संस्थान के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में सोमवार को महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. आनन्दप्रकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में व्याख्यान रखा गया, जिसके प्रमुख वक्ता राजनीति-विज्ञान विषय के चिर-परिचित लेखक, अन्तर्राष्ट्रीय ख्यातिनाम विद्वान् आर.एस. यादव थे, जिनकी ‘भारत की विदेशनीति’ नामक पुस्तक भारत के दर्जनों विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों में शुमार है तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर विदेशी संबंधों के विश्लेषक मुख्यवक्ता प्रो. यादव ने छात्राओं को विद्यार्थी जीवन में सफलता हेतु कुछ महत्त्वपूर्ण गुर सिखाये, जिसके तहत उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को जीवन में अपने विषय के प्रति सदैव सजग रहना, उस विषय की विषयवस्तु पर पकड़ रखना एवं उससे संबंधित छोटी से छोटी प्रत्येक घटना का विश्लेषण करना सरीखे महत्त्वपूर्ण बिन्दुओं को जीवन के प्रत्येक स्तर के लिये महत्त्वपूर्ण बताते हुए ज्ञानार्जन को जीवन-पर्यन्त चलने वाली एक सतत् प्रक्रिया बताया।

प्रो. यादव ने इसी क्रम में आगे कहा कि किसी भी विद्यार्थी द्वारा परीक्षा में दिया गया प्रस्तुतिकरण सबसे महत्त्वपूर्ण होता है। प्रस्तुतिकरण की सक्षमता विद्यार्थी को अपेक्षा से अधिक सफलता दिलाने में सहायक होती है, जिसके लिये विद्यार्थी को परीक्षा से ठीक पहले शांतचित्त एवं सहज होकर परीक्षा के भय को दिमाग से निकाल देना चाहिए।

इससे पहले प्रो. त्रिपाठी ने कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता प्रो. यादव का शाॅल ओढ़ाकर परम्परानुसार यथोचित सम्मान किया एवं छात्राओं को उनके विषय वैशिष्ट्य की जानकारी देते हुए उनके जीवन-चरित्र को शब्द-रेखाओं के माध्यम से उकेरा। कार्यक्रम का संचालन अहिंसा एवं शांति विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. जुगल किशोर दाधीच द्वारा किया गया एवं धन्यवाद ज्ञापन महाविद्यालय की व्याख्याता डाॅ. प्रगति भटनागर ने किया।

Read 2374 times

Latest from