जैन विश्वभारती संस्थान में छाया नववर्ष का उत्साह

लाडनूँ, 01 जनवरी, 2018। जैन विश्वभारती संस्थान में नववर्ष के शुभागमन को महाप्रज्ञ सभागार में उत्साहपूर्वक मनाया गया। कार्यक्रम संस्थान की सर्वमंगल प्रार्थना के साथ शुरू हुआ।

कार्यक्रम में अध्यक्ष पद के दायित्व का निर्वहन कर रहे आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य एवं दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के निदेशक प्रो. आनन्दप्रकाश त्रिपाठी ने कार्यक्रम को शिखर तक ले जाते हुए कहा कि आज के दिन को नये वर्ष के प्रथम दिन के साथ ही संस्थान के विद्यार्थी नये सेमेस्टर के प्रथम दिन के रूप में भी देखें। इसी में विद्यार्थियों का हित निहित है। साथ ही उन्होंने कहा कि आज का दिन आत्मावलोकन व आत्मचिंतन का दिन है, ताकि हम अपने गुजरे अतीत से सबक लेकर अपना भविष्य संवार सकें। प्रो. त्रिपाठी ने गत वर्ष संस्थान के सभी सदस्यों द्वारा दिये गये योगदान की सराहना करते हुए सभी के प्रति अनेकानेक शुभकामनाएँ दी।

संस्थापन शाखा के रमेशदान चारण ने देशभक्ति गीत ‘मेरे वतन के जैसा कोई वतन नहीं है’, ‘चांद से भी प्यारा तारों से भी हसीं है’ की प्रस्तुति देकर समस्त श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। कार्यक्रम के दौरान चंद छात्र-छात्राओं की प्रस्तुतियां भी हुईं, जिनमें विनय जैन द्वारा नववर्ष शुभकामनाएँ, हेमलता शर्मा, प्रवीणा राठौड़, कंचन स्वामी ने कविताएँ एवं तांबी दाधीच द्वारा एकल-नृत्य की प्रस्तुति दी गई। इनके ठीक बाद विश्वविद्यालय के उपकुलसचिव प्रद्युम्नसिंह शेखावत ने विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से संस्थान के सभी कर्मचारियों एवं विद्यार्थियों को शुभकामना संदेश दिया।

प्राच्यविद्या एवं भाषा विभाग के प्रो. दामोदर शास्त्री ने द्विअर्थीय शब्दावली का प्रयोग करते हुए सम्पूर्ण कार्यक्रम का क्रियान्वयन विवेक द्वारा होना बताया व इसके लिए एक तरफ संचालन कर रहे डाॅ. विवेक माहेश्वरी की तारीफ की वहीं दूसरी ओर इसके लिये समस्त संस्थान परिवार को साधुवाद दिया। शिक्षा विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. बी.एल. जैन ने अपने विभाग की तरफ से संस्थान परिवार के सभी सदस्यों के प्रति शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि प्रयास और पुरुषार्थ के माध्यम से नववर्ष में हम अपने संकल्प की सिद्धि करते रहें।

शुभकामनाओं के इसी क्रम में समाज कार्य विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. बिजेन्द्र प्रधान, अहिंसा एवं शांति विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. जुगल किशोर दाधीच, अंग्रेजी विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. गोविन्द सारस्वत, जैनविद्या एवं जैनेत्तर दर्शन विभाग के सहायक आचार्य डाॅ. योगेश जैन, आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय के हिन्दी व्याख्याता अभिषेक चारण, संस्थान के शैक्षणिक अधिकारी वी.के. शर्मा आदि ने अपने वक्तव्यों से विश्वविद्यालय परिवार को मंगलकामनाएँ दीं।

Read 1403 times

Latest from