संविधान दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन कर रक्षा की शपथ ली

लाडनूँ, 26 नवम्बर 2022। जैन विश्वभारती संस्थान विश्वविद्यालय के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में शनिवार को संविधान दिवस मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि किसी भी राष्ट्र का संविधान उस राष्ट्र का प्राण एवं आत्मा होती है। भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा संविधान है, जिसके निर्माण में डॉ. भीमराव अंबेडकर की महत्वपूर्ण भूमिका रही। भारत सरकार द्वारा 2015 से भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती के उपलक्ष्य में प्रतिवर्ष संविधान दिवस मनाया जा रहा है, जिसका मुख्य उद्देश्य संविधान के आदर्शों एवं मौलिक प्रावधानों के प्रति नागरिकों में आस्था एवं सम्मान का भाव जागृत करना है। इस अवसर पर छात्रा हर्षिता ने भी अपने विचार व्यक्त किए और संविधान की प्रस्तावना का पठन किया जाकर संविधान की रक्षा की शपथ ली गई। कार्यक्रम का संयोजन सहायक आचार्य डॉ. बलबीर सिंह ने किया। इस अवसर पर संकाय सदस्य प्रो. रेखा तिवाड़ी, डॉ. प्रगति भटनागर, अभिषेक चारण,श्वेता खटेड़, अभिषेक शर्मा, तनिष्का शर्मा आदि एवं विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Read 1653 times

Latest from