जैन विश्वभारती संस्थान के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में अखिल भारतीय अन्तर्महाविद्यालय हिन्दी वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन

सरकारों की मजबूती का आधार बिन्दु समाज होता है-प्रो. दूगड़

लाडनूँ, 12 जनवरी 2019। जैन विश्वभारती संस्थान के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में संचालित विवेकानन्द क्लब के तत्वावधान में दिल्ली निवासी एवं अमेरिका प्रवासी सुरेन्द्र कुमार जैन के आर्थिक सौजन्य से अखिल भारतीय अन्तर्महाविद्यालय हिन्दी वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता का विषय ‘‘सदन की राय में चुनावी राजनीति में राजनैतिक दलों के बागी प्रत्याशियों की चुनौती स्वस्थ लोकतंत्र के लिए घातक है’’ रखा गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़ ने भारतीय राजनीति की मौलिक विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सरकारों की मजबूती का आधार बिन्दु समाज होता है। साथ ही बतलाया कि सफलता एवं असफलता से ही व्यक्ति का दुनियां में पहचान होती है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजकीय महाविद्यालय डेगाना के प्राचार्य प्रो. एस.बी.एल. त्रिपाठी ने कहा कि विज्ञान, अध्यात्म, संस्कृति एवं धर्मग्रन्थों के महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर प्रकाश डालते हुए बहुआयामी दृृष्टिकोण प्रस्तुत किया तथा जैन विश्वभारती संस्थान की गौरवमयी संस्कृति एवं क्षमता की प्रशंसा की।

भीलवाड़ा की नेहा प्रथम व लाडनूँ की मेहनाज बानों द्वितीय रही

प्रतियोगिता में दो दर्जन से अधिक प्रतिभागियों ने हिस्सा लेकर इस विषय पर पक्ष-विपक्ष में अपने विचार प्रस्तुत किये। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर एस.एस.एम. राजकीय महाविद्यालय, भीलवाड़ा की छात्रा नेहा शर्मा, द्वितीय स्थान पर आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय लाडनूँ की छात्रा मेहनाज बानो तथा तृतीय स्थान मोहरीदेवी तापडिया बालिका महाविद्यालय जसवंतगढ़ की छात्रा पूजा फुलवारिया रही। दो सांत्वना पुरस्कार भी दिये गये, जो राजकीय महाविद्यालय अजमेर के छात्र सांवरमल चैधरी तथा एमबीएम. इंजिनियरिंग कॉलेज जोधपुर के छात्र राघव शर्मा ने प्राप्त किये। सभी विजेताओं को पुरस्कार स्वरूप धनराशि, प्रतीक चिह्न एवं प्रमाण-पत्र प्रदान किये गये। प्रारम्भ में महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने स्वागत व्यक्तव्य के साथ कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने जैन विश्वभारती संस्थान की मौलिक विशेषताओं एवं उपलब्धियों से अवगत करवाया। प्रतियोगिता में निर्णायक की भूमिका में बीजी. शर्मा, रामकुमार शर्मा एवं कालिप्रसाद शर्मा रहे। अंत में सहायक आचार्या डॉ. प्रगति भटनागर ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. बलबीर सिंह चारण ने किया। प्रतियोगिता में महाविद्यालय के सहायक आचार्य कमल कुमार मोदी, सोनिका जैन, सोमवीर सांगवान, रत्ना चैधरी, योगेश टॉक, अपूर्वा घोड़ावत, डॉ. जुगल किशोर दाधीच, अभिषेक चारण, सोमवीर सांगवान आदि उपस्थित रहे।

Read 481 times

Latest from