नौ दिवसीय कौशल विकास कार्यशाला का आयोजन

वर्तमान में कम्प्यूटर व आईटी हर व्यक्ति के लिए जरूरी है- सुराणा

लाडनूँ, 5 मई 2022। जैन विश्वभारती संस्थान विश्वविद्यालय में कौशल विकास कार्यक्रम के तहत कर्मचारियों में कम्प्यूटर, विभिन्न कम्प्यूटर सोफ्टवेयर्स एवं इंफॉर्मेंशन टेक्नोलोजी के सम्बंध में पारंगत करने के लिए कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़ के निर्देशन में गुरूवार से नव-दिवसीय कार्यशाला शुरू की गई, जो 13 मई तक संचालित की जाएगी। उपकुलसचिव विनीत सुराणा ने कार्यशाला के प्रारम्भ पर बताया कि वर्तमान समय अक्षर-ज्ञान के स्थान पर कम्प्यूटर और आईटी का युग है, जिसमें अगर व्यक्ति कितना ही पढा-लिखा हो, लेकिन कम्प्यूटर में कुछ नहीं जानता तो वो निरक्षर के समान ही है। विश्वविद्यालय के प्रत्येक व्यक्ति को केवल कम्प्यूटर साक्षर होना ही पर्याप्त नही्र है, बल्कि उसे अपने कार्य में रोजमर्रा काम आने वाले सभी प्रोग्राम में पारंगत होना भी जरूरी है। उन्होंने बताया कि यह काफी आसान है, केवल झिझक दूर होनी जरूरी है। रूचि रखने पर नौ दिनों की इस कार्यशाला अवधि में सभी यहां सीखी जाने वाली समस्त तकनीक में कामयाब हो पाएंगे। इस कार्यशाला में कंम्यूटर टैक्नोलोजी से अज्ञ रहे कार्मिकों को एमएस एक्सेल, एमएस पावर पॉइंट, हिन्दी यूनिकोड एवं इंग्लिश टाईपिंग, गूगल मीट व जूम आदि वीडियो कांफ्रेंसिंग प्लेटफार्म, गूगल फॉर्म आदि की जानकारी देकर उन्हें कम्प्यूटर दक्ष बनाया जा रहा है। इस कार्यशाला में 25 कार्मिक हिस्सा ले रहे हैं।

Read 200 times

Latest from