जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के समाज कार्य विभाग के तत्वावधान मे विश्व साक्षरता दिवस पर दुजार में कार्यक्रम का आयोजन

साक्षर व्यक्ति बच सकता है अनेक मुश्किलों से- डाॅ. मिश्रा

लाडनूँ 8 सितम्बर 2018। विश्व साक्षरता दिवस के अवसर पर जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के समाज कार्य विभाग के तत्वावधान में निकटवर्ती ग्राम दुजार में एक कार्यक्रम का आयोजन करके साक्षरता के प्रति जागरूकता पैदा की गई। विभागाध्यक्ष बिजेन्द्र प्रधान व अंकित शर्मा के निर्देशन में समाज कार्य विभाग के विद्यार्थियों द्वारा राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रधानाचार्य राजेन्द्र कुमार ने की तथा मुख्य अतिथि के रूप में डाॅ. पुष्पा मिश्रा थी। डाॅ. मिश्रा ने इस अवसर पर अपने सम्बोधन में कहा कि पढाई के अभाव में किसान एवं ग्रामीणों को बहुत प्रकार के संकटों का सामना करना पड़ता रहा है। साक्षर होने के बाद उनसे आसानी से बचा जा सकता है। प्रधानाचार्य राजेन्द्र कुमार ने शिक्षा के महत्व पर जोर देते हुये कहा कि अगर बाल्यावस्था में ही विद्यालय भेजना शुरू कर दिया जावे, तो कोई भी अनपढ नहीं रह सकता है। कार्यक्रम में आयुष जैन ने साक्षरता दर के बारे में बताया तथा कहा कि हमें देश के विकास की धारा के साथ रहने के लिये शिक्षा का प्रसार करना होगा। विद्यालय की छात्रा शांति स्वामी व पूजा स्वामी ने गांव-गांव में लोगों में साक्षरता के प्रति जागरूकता लाने की बात कही और कहा कि साक्षरता बढाने केे लिये हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है। प्रारम्भ में जितेन्द्र उपाध्याय ने साक्षरता दिवस के महत्व को बताया तथा स्वागत वक्तव्य प्रस्तुत किया। अंत में प्रिया सिंह ने आभार ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. विकास शर्मा ने किया।

Read 280 times

Latest from