जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के अन्तर्गत होली पर्व के अवसर पर नृत्य एवं गीतों की प्रस्तुति के साथ होली पर फुहार कार्यक्रम का आयोजन

उमंग, उत्साह व नवीन ऊर्जा का संचार करने वाला पर्व है होली- प्रो. जैन

लाडनूँ, 17 मार्च 2019। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के शिक्षा विभाग के अन्तर्गत होली पर्व के अवसर पर कार्यक्रम फुहार का आयोजन स्नेह मिलन के रूप में किया गया। कार्यक्रम में विभागाध्यक्ष प्रो. बीएल जैन ने कहा कि होली हमारे जीवन में उमंग, उत्साह एवं नवीन ऊर्जा का संचार करने वाला पर्व है। उन्होंने बताया कि भारतीय संस्कृति के विविध त्यौंहार आपसी सौहार्द्र, साम्प्रदायिक सद्भाव एवं विविधता में एकता को बढावा देते हैं। होली का त्यौंहार हमारे जीवन में रंगों की विविधता एवं सम्मिश्रण व परस्पर समायोजन की प्रेरणा देता है। संयोजक डाॅ. गिरधारीलाल शर्मा ने कार्यक्रम के उद्देश्य पर बोलते हुये कहा कि हमें त्यौंहार को सुरक्षित व गरिमामय ढंग से मनाना चाहिये। कार्यक्रम में बीएड तथा बीए-बीएड व बीएससी-बीएड में अध्ययनरत छात्राध्यापिकाओं के गठित विभिन्न सदनों ने सामुहिक गायन व सामुहिक नृत्य की प्रस्तुतियां दी। इनमें गांधी सदन ने ‘‘ होलिया में उड़े रै गुलाल...’’ की प्रस्तुति दी। आचार्य महाप्रज्ञ सदन ने ‘‘ रंग बरसे भीगे चुनर वाली.....’’, आचार्य महाश्रमण सदन ने ‘‘पीली लूगड़ी रा झाला....’’, जे. कृष्णमूर्ति सदन ने पंजाबी गीत ‘‘रंग दा कमाल....’’ शारदा सदन ने ‘‘ काल्यो कूद पड़्यो मेला में....’’ आदि गीतों के साथ रंगारंग नृत्यों की प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम में संकाय सदस्य डाॅ. गिरीराज भोजक ने राजस्थानी चंग गीत एवं डाॅ. गिरधारी लाल शर्मा ने रंग बरसे गीत की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में डाॅ. भाबाग्रही प्रधान, डाॅ. विष्णु कुमार, डाॅ. मनीष भटनागर, डाॅ. अमिता जैन, डाॅ. सरोज राय, डाॅ. आभासिंह, देवीलाल कुमावत, मुकुल सारस्वत, मोतीलाल प्रजापत आदि संकाय सदस्य एवं छात्राध्यापिकायें उपस्थित रही।

Read 227 times

Latest from