जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के दो प्राकृत विद्वानों को राष्ट्रपति सम्मान मिला

लाडनूँ, 4 अप्रेल 2019। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के दो विद्वानों को प्राकृत भाषा के क्षेत्र में उत्कृष्ट एवं उल्लेखनीय योगदान करने के लिये नई दिल्ली केे राष्ट्रपति भवन में आयोजित सम्मान समारोह में राष्ट्रपति सम्मान से सम्मानित किया गया है। इनमें से प्रो. दामोदर शास्त्री को 5 लाख रूपये का पुरस्कार तथा डाॅ. योगेश कुमार जैन को 1 लाख रूपयों का पुरस्कार प्रदान किया गया। समारोह में उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडु ने उन्हें यह सम्मान प्रदान किया।

इन छह विद्वानों को किया गया सम्मानित

राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किये जाने वाले विद्वानों में लाडनूँ के जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के दो विद्वान शामिल हैं। यह सम्मान प्राप्त करने वाले 6 विद्वानों में लाडनूँ के जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के प्राकृत एवं संस्कृत विभाग के प्रो. दामोदर शास्त्री, पाश्र्वनाथ विद्यापीठ वाराणसी के अध्यक्ष प्रो. सागरमल जैन, सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय वाराणसी के जैन दर्शन एवं प्राकृत विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रो. फूलचंद जैन शामिल है तथा इनके अलावा युवा विद्वानों को महर्षि बादरायण व्यास राष्ट्रपति सम्मान प्रदान किया गया, जिनमें जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय लाडनूँ के जैनविद्या एवं तुलनात्मक धर्म व दर्शन विभाग के सहायक आचार्य डाॅ. योगेश कुमार जैन, मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय उदयपुर के सहायक आचार्य डाॅ. सुमत कुमार जैन व राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान मान्य विश्वविद्यालय जयपुर के जैन दर्शन विभाग के सहायक आचार्य डाॅ. आनन्द कुमार जैन शामिल हैं।

Read 1008 times

Latest from