व्याख्यानमाला के अन्तर्गत देश के आर्थिक विकास के लिये महतवपूर्ण है वित्तीय समावेशन’’ विषय पर व्याख्यान

देश के आर्थिक विकास के लिये महतवपूर्ण है वितीय समावेशन

लाडनूँ, 22 अक्टूबर 2019। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में संचालित की जाने वाली व्याख्यानमाला के अन्तर्गत मंगलवार को अभिषेक शर्मा ने ‘‘वित्तीय समावेशन’’ विषय पर व्याख्यान प्रस्तुत किया। उन्होंने अपने व्याख्यान में बताया कि देश के आर्थिक विकास में वित्तीय समावेशन की अहम भूमिका होती है। इसमें समाज के निचले तबके को बैंकिंग की वित्तीय सुविधाओं से जोड़ कर समाज की मुख्य धारा में शामिल किया जाता है। वित्तीय प्रबंधन द्वारा सरकारों द्वारा विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ वांछित व्यक्तियों के खातों में सीधे पहुंचाया जाता है, ताकि उन्हें आर्थिक सम्बल मिल सके और देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को जड़ से उखाड़ कर फेंका जा सके। व्याख्यानमाला की अध्यक्षता करते हुये प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि अर्थव्यवस्था देश की रीढ होती है और आर्थिक सुव्यवस्था देश के प्राण होते हैं। इसके लिये वितीय समावेशन का महत्व बढ जाता है। इस अवसर पर उपस्थित डाॅ. प्रगति भटनागर, कमल कुमार मोदी, अभिषेक चारण, डाॅ. बलबीर सिंह चारण, श्वेता खटेड़, शेर सिंह, मांगीलाल आदि ने इस सम्बंध में व्याख्याताकार से अनेक सवाल भी पूछे, जिनका जवाब अभिषेक शर्मा ने प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का संचालन सोमवीर सांगवान ने किया।

Read 147 times

Latest from