जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं का आयोजन

लाडनूँ, 20 जनवरी 2020। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के महाश्रमण ऑडिटोरियम में सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं का शुभारम्भ प्रो. समणी ऋजुप्रज्ञा की अध्यक्षता में किया गया। शिक्षा विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. बीएल जैन भी कार्यक्रम के मंचासीन अतिथि रहे। सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं के प्रथम दिवस रंगोली प्रतियोगिता एवं एकल लोकनृत्य प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। रंगोली प्रतियोगिता के लिये छात्राओं के 39 समूह बनाये गये, जिन्होंने परिसर में ही विभिन्न आकर्षक रंग उकेरते हुये मनभावन रंगोलियां सजाई। रंगोलियों में विजेताओं के चयन के लिये डाॅ. सुनिता इंदौरिया व डाॅ. ममता सोनी ने निर्णायक की भूमिका निभाई और सभी रंगोलियों का अवलोकन किया। इसके अलावा एकल लोकनृत्य प्रतियोगिता में 52 प्रतिभागियों ने राजस्थानी लोकगीतों पर एक से बढ कर ऐ लोक नृत्यों की प्रस्तुतियां दी। इनके निर्णायकों के रूप में डाॅ. तृप्ति त्रिपाठी और अंजलि माथुर उपस्थित रही। प्रतियोगिताओं का शुभारम्भ सरस्वती के पूजन के साथ किया गया। प्रारम्भ में सांस्कृतिक समिति की सचिव डाॅ. अमिता जैन ने प्रतियोगिता के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला और अतिथियों का परिचय प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. विनोद कस्वा ने किया।

लोकनृत्य प्रतियोगिता में छात्राओें ने मचाई धूम, राजस्थानी संस्कृति को किया साकार

22 जनवरी 2020। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में चल रही चार दिवसीय सांस्कृतिक प्रतियेागिताओं में छात्राओं ने एकल गायन एवं सामुहिक लोकनृत्य प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और राजस्थानी संस्कृति से ओतप्रोत विभिन्न आकर्षक नृत्यों की प्रस्तुतियां देकर दर्शकों का मन मोहा। सांस्कृतिक समिति की सचिव डाॅ. अमिता जैन ने बताया कि सामुहिक लोकनृत्य में कुल 21 समूहों ने भाग लिया, जिनमें आरती तिवारी एवं समूह, आमना एवं समूह, निकिता शर्मा एवं समूह, कुसुम नाई एवं समूह, विनोद बिजारणियां एवं समूह, प्रीति फूलफगर समूह, रूबिना समूह, साक्षी गुर्जर समूह, गुनगुन समूह, पूजा समूह, महिमा प्रजापत समूह, आंकाक्षा समूह, मोनिका समूह, पिंकी राठौड़ समूह, राधिका समूह, सोनिया समूह, ममता पंवार समूह, पूजा शर्मा समूह, सपना समूह, पूजा पंवर एवं समूह तथा वृंदा समूह ने लोकगीतों पर आधारित नृत्यों की प्रस्तुतियां देकर खूब तालियां बटोरी। इस प्रतियेागिता के निर्णायकों में डाॅ. मधु जैन, डाॅ. तृप्ति त्रिपाइी व गीता पूनिया थी। एकल गायन प्रतियोगिता में 22 प्रतिभागियों ने भाग लिया; इनमें मुमुक्षु प्रेक्षा, नीतु जोशी, दुर्गा कुमारी, भावना भाटी, मुमुक्षु मीनल, मुमुक्षु सजना, मनीषा मेहरा, मुमुक्षु अंकिता, स्नेहा पारीक, हिमांशी, कुसुम नाई, अर्चना शर्मा, मुमुक्षु रोशनी, सोनम कंवर, सिमरन, आयशा सिंह, सविता कंवर, हिमांशी, ललिता काला व रीतिका ने गायन प्रस्तुत किये। इस प्रतियेागिता में निर्णायकों में डाॅ. पुष्पा मिश्रा, डाॅ. गिरधारीलाल शर्मा व डाॅ. गिरीराज भोजक शामिल थे। सांस्कृतिक प्रतियोगिता के तहत विश्वविद्यालय के स्टाफ के लिये भी गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें 13 जनों ने हिस्सा लिया; जिनमें अभिषेक चारण, प्रगति चैरड़िया, डाॅ. गिरधारी लाल, डाॅ. सत्यनारायण भारद्वाज, डाॅ. गिरीराज भोजक, पंकज भटनागर, डाॅ. पुष्पा मिश्रा, डाॅ. सरोज राय, डाॅ. रणजीत मंडल, विजय कुमार शर्मा, श्वेता खटेड़ आदि शामिल थे। निर्णायकों के तौर पर प्रो. अनिल धर व प्रो. बीएल जैन थे। कार्यक्रम के अंत में डाॅ. विनोद सियाग ने धन्यवाद ज्ञापित किया। संचालन डाॅ. अमिता जैन ने किया।

विद्यार्थियों में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का विकास जरूरी- प्रो. दूगड़

लाडनूँ, 23 जनवरी 2020। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में चल रही चार दिवसीय सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं के समापन सत्र में सम्बोधित करते हुये कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़ ने कहा कि शैक्षणिक व गैर शैक्षणिक गतिविधियां मिलकर ही विद्यार्थी का सर्वांगीण विकास करने में सक्षम होती हैं। यहां छात्र-छात्राओं के व्यक्तित्व विकास की ओर पूरा ध्यान दिया जाता है और उनके लिये उनकी रूचि के अनुरूप विभिन्न क्लबों का गठन किया जाकर उनकी प्रतिभा को निखारने का काम किया जाता है, जिसके लिये समस्त सुविधायें और आवश्यक बजट भी उपलब्ध करवाया जाता है। प्रतिभाओं को निखारने का मौका हाथ से नहीं जाने देना चाहिये और इन्हें राष्ट्रीय व अन्र्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भी प्रदर्शन का अवसर दिया जाना चाहिये। स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का विकास विद्यार्थियों में होना आवश्यक है। इस अवसर पर स्नेहा पारीक, महिमा प्रजापत तथा प्रतिष्ठा एवं समूह ने मनमोहक नृत्यों की प्रस्तुति देकर अपनी कला का प्रदर्शन किया। सांस्कृतिक समिति की सचिव डाॅ. अमिता जैन ने चार दिनों में सम्पन्न की गई प्रतियोगिताओं के विजेताओं की घोषणा की। उन्होंने बताया कि रंगोली प्रतियोगिता में भावना चैधरी समूह प्रथम रहा। ममता भाटी समूह द्वितीय और मनीषा टाक समूह तृतीय स्थान पर रहा। एकल नृत्य प्रतियोगिता में प्रथम स्नेहा पारीक, द्वितीय महिमा प्रजापत व तृतीय आकांक्षा डूकिया रही। सामुहिक लोकनृत्य में प्रथम स्थान पर सपना एवं समूह, द्वितीय महिमा प्रजापत एवं समूह तथा तृतीय स्थान पर पूजा पंवार एवं समूह और वृंदाएवं समूह रहे। एकल लोकगायन प्रतियोगिता में अर्चना शर्मा प्रथम, हिमांशी द्वितीय और मुमुक्षु संजना एवं मनीषा गोदारा तृतीय रही। मेहंदी प्रतियोगिता में कविता हुड्डा प्रथम, तरन्नुम बानो द्वितीय और रचना सोनी, अनिशा बानो, मनीषा टाक व खुशबू बानो तृतीय स्थान पर रहीं। सामुहिक भजन प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर रूबिना बानो एवं समूह, द्वितीय प्रतिष्ठा कोठारी एवं समूह तथा तृतीय स्थान पर दुर्गा एवं समूह रहे। स्टाफ कार्मिकों की एकल गायन प्रतियोगिता में प्रथम डाॅ. सत्यनारायण भारद्वाज, द्वितीय डाॅ. गिरधारीलाल शर्मा एवं तृतीय स्थान पर डाॅ. गिरीराज भोजक रहे। कार्यक्रम में प्रो. रेखा तिवाड़ी, प्रो. बीएल जैन, डाॅ. मनीष भटनागर, अभिषेक शर्मा, पंकज भटनागर, प्रगति चैरड़िया आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन मानषी व योगिता ने किया।

Read 625 times

Latest from