जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में युवा दिवस के रूप में मनाई स्वामी विवेकानंद जयंती

हर युवा के लिए आदर्श है स्वामी विवेकानन्द- डॉ. अमिता जैन

लाडनूँ, 12 जनवरी 2022। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में सांस्कृतिक समिति के तत्वावधान में स्वामी विवेकानंद जयंती कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में सांस्कृतिक सचिव डॉ. अमिता जैन ने कहा कि जीवन में हमेशा अच्छे आदर्शों को चुनो और उसी पर अमल करो। समुद्र को देखो ना कि उसकी लहरों को। विवेकानंद एक ऐसा व्यक्तित्व रहा, जो हर युवा के लिए एक आदर्श बन सकता है। उनकी कही एक भी बात पर यदि कोई अमल कर ले, तो शायद उसे कभी जीवन में असफलता व हार का मुंह ना देखना पड़े। कार्यक्रम में हंसा कंवर, पूजा चौधरी, साक्षी शर्मा, खुशी जोधा, उषा सारण, पूर्वी तंवर, मेघा वाढवानी, निरंजन कंवर, पूजा बेरा, प्रियंका प्रजापत, सरिता सारण आदि ने अपने अपने विचारों को भाषण एवं कविता के माध्यम से प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में लगभग 65 विद्यार्थी एवं सहायक आचार्य डॉ. लिपि जैन और डॉ. विनोद कस्वां उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन छात्राध्यापिका किरण सांडू ने किया। युवा दिवस के अवसर पर संस्थान में युवाओं के लिए वैक्सीनेशन कैम्प का आयोजन भी किया गया, जिसमें जिन विद्यार्थियों के प्रथम एवं द्वितीय डोज नहीं लगी, उनके वैक्सीन लगायी गई। विभागाध्यक्ष प्रो. बीएल जैन ने बताया कि इस महामारी से निपटने का एक मात्र उपाय वैक्सीन ही है, जिसे सभी को लगवानी चाहिए। विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग में भी राष्ट्रीय युवा दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में डॉ. विकास शर्मा ने स्वामी विवेकानन्द के जीवन और विचारों से प्रेरणा लेने की जरूरत बताते हुए कहा कि उनके विचार ‘जब तक जीना, तब तक सीखना’ के आधार पर हमेशा सीखने की प्रवृति रखनी चाहिए। अपने आप पर विश्वास रख कर ही जीवन में कामयाबी मिल सकती है। डॉ. पुष्पा मिश्रा ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने देश के करोड़ों लोगों के उत्थान के लिए कार्य किया था। उनके आदर्शों को अपने जीन का लक्ष्य बनाना चाहिए। कार्यक्रम में बंटीसिंह, मीतू शाहा, कुंजन शर्मा आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन शिखा कपूर ने किया।

Read 82 times

Latest from