व्यापारिक कानूनों पर छात्राओं ने दिया प्रस्तुतिकरण का एक कार्यक्रम आयोजित

झिझक को मिटाने पर ही प्रभावी हो सकता है प्रस्तुतिकरण- प्रो. त्रिपाठी

लाडनूँ, 17 फरवरी 2022। जैन विश्वभारती संस्थान विश्वविद्यालय के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में गुरूवार को व्यावसायिक सन्नियम पर छात्राओं के प्रस्तुतिकरण का एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि छात्राओं में सीखने की ललक होनी चाहिए। प्रगति के लिए जरूरी है कि बोलने में होने वाली झिझक को समाप्त किया जाए। खुलकर बिना संकोच बोलने से ही उनकी प्रस्तुति प्रभावी बन सकती है। उन्होंने सीखने और उसे प्रस्तुत करने के सम्बंध में अनेक गुर भी बताए और छात्राओं को निडर होकर अपनी बात रखने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम के अतिथि जगदीश यायावर ने कॉमर्स जैसे विषय की गहनता और उनके सूत्रों की जीवन में उपयोगिता के बारे में बताया। कार्यक्रम में मोहिनी प्राजपत, विशाखा जांगिड़, डिम्पल जांगिड़, करिश्मा सोनी, योगिता जांगिड़ व आकांक्षा शर्मा ने पीपीटी के माध्यम से इंडियन कंट्राक्टर एक्ट- 1872, सेल एंड गुड्स एक्ट-1930, कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट तथा निगोसिएबल इंस्ट्रूमेंट्स एक्ट-1881 के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए उनके बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम का संचालन श्वेता खटेड़ ने किया। कार्यक्रम में कार्यक्रम की आयोजक प्रगति चौरड़िया, अभिषेक शर्मा व छात्राएं उपस्थित रहीं।

Read 483 times

Latest from