नैचुरोपैथी व योग चिकित्सा के उत्थान में जरूरी है आधुनिक वैज्ञानिक उपकरणों एवं विधियों का सहयोग- प्रो. दूगड़

अहमदाबाद के नेचुरोपैथी इंस्टीट्यूट का अवलोकन एवं विचार गोष्ठी का आयोजन

लाडनूँ, 21 अप्रेल 2022। जैन विश्वभारती संस्थान के कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़ ने अहमदाबाद के कोबा में प्रेक्षाध्यान अकादमी की यूनिट के रूप में एनवाईएमयूसीटी द्वारा संचालित एवं प्रबंधित महाप्रज्ञ नैचुरोपैथी एंड योगा इंस्टीट्यूट पर की गई व्यवस्थाओं व सुविधाओं का अवलोकन किया तथा उनकी उपयोगिता का मूल्यांकन किया। इस अवसर पर इंस्टीट्यूट के प्रबंध मंडल व अधिकरियों के साथ आयोजित विचार गोष्ठी में कुलपति प्रो. दूगड़ ने नेचुरोपैथिक एवं यौगिक चिकित्सा की आवश्यकता और ऐलोपैथी के बढते दुष्प्रभावों से बचने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा की ओर लोगों के तेजी से बढते रूझान का चित्रण किया। उन्होंने नैचुरोपैथी और योग में आधुनिक वैज्ञानिक उपकरणों एवं विधियों के सहयोग की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि इससे इन पद्धतियों की प्रामाणिकता को सिद्ध किया जा सकता है। इस अवसर पर उन्होंने जैन विश्वभारती संस्थान विश्वविद्यालय में शीघ्र शुरू किए जाने वाले आचार्य महाप्रज्ञ मेडिकल कॉलेज एंड होस्पिटल ऑफ नुचरोपैथी एंड योग के बारे में विस्तार से जानकारी दी और उसके माध्यम से किए जा सकने वाले नेचुरोपैथी के उत्थान और विस्तार के विविध आयामों की जानकारी भी दी। इसके साथ ही उन्होंने गुजरात दौरे में मेहसाणा स्थित नेचुरोपैथी सेंटर का अवलोकन भी किया। कुलपति प्रो. दूगड़ के साथ बाबूलाल शेखानी, पुखराज मदानी, चिरंजीलाल चौपड़ा, एचके जैन आदि भी थे।

Read 232 times

Latest from