साइबर जागरुकता दिवस पर कार्यक्रम आयोजित

लापरवाही व प्रलोभन से बनते हैं हम साइबर क्राइम का शिकार- प्रो. त्रिपाठी

लाडनूँ, 2 नवम्बर 2022। भारत सरकार एवं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार प्रत्येक महीने के प्रथम बुधवार को मनाए जाने वाले साइबर जागरुकता दिवस पर जैन विश्व भारती संस्थान के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में कार्यक्रम आयोजित कर छात्राओं को साइबर जागरुकता का संदेश दिया गया। प्राचार्य प्रो. आनंदप्रकाश त्रिपाठी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि विज्ञान और तकनीकी के सभी लाभ प्रत्येक मनुष्य को मिलने चाहिए, लेकिन उनके उपयोग में लापरवाही की जाने पर उससे बड़ी चोट पहुंचना भी संभव है। हमारी लापरवाही एवं अनदेखियों का फायदा उठाकर कुछ आपराधिक प्रवृति के लोग हमें साइबर क्राइम का शिकार बनाते हैं। झांसे और प्रलोभन से ही व्यक्ति साइबर क्राइम का शिकार होता है, इसलिए इन उपकरणों का प्रयोग जागरूक व सतर्क रहकर किया जाए तो ऐसे अपराधों से बचा जा सकता है।

पोर्टल या हेल्पलाईन नम्बर से सहायता प्राप्त करें

कंप्यूटर एप्लीकेशन की सहायक आचार्या एवं कार्यक्रम संचालक डॉ. प्रगति भटनागर ने कार्यक्रम में जानकारी दी कि साइबर क्राइम जैसे अपराधों से निपटने के लिए केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा एक नोडल एजेंसी ‘इंडियन साइबर क्राइम कॉर्डिनेशन सेंटर’ की स्थापना की गई है। इसके अंतर्गत नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल कार्य करता है। इस पोर्टल पर कोई भी व्यक्ति अपने साथ हुए किसी भी प्रकार के साइबर क्राइम की रिपोर्टिंग कर सकता है। जिस पर पुलिस द्वारा त्वरित कारवाही की जाती है। साथ ही साइबर फोर्ड को हेल्पलाइन नंबर 1930 पर भी दर्ज करवाया जा सकता है। यह नंबर 24 घंटे सक्रिय रहता है। कार्यक्रम में हेमपुष्पा चौधरी, खुशी जोधा एवं प्रियंका सोनी आदि छात्राओं ने भी साईबर क्राईम और बचाव के सम्बंध में अपने विचार रखे।

Read 417 times

Latest from