बुक रिव्यू कार्यक्रम में ‘‘मार्केटिंग मैनेजमेंट’’ पुस्तक की समीक्षा

बाजार प्रबंधन में उपभोक्ता की क्रय क्षमता को प्रभावित करना आवश्यक- मोदी

लाडनूँ, 13 अगस्त 2019। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में शुरू किये गये नये प्रयेाग के तौर पर बुक रिव्यू (पुस्तक समीक्षा) कार्यक्रम में कमल कुमार मोदी ने फिलिप कोटलर, केविन लेन केलर, अब्राहम कोशी एवं मिथलेश्वर झा लिखित पुस्तक ‘‘मार्केटिंग मैनेजमेंट’’ पर अपनी समीक्षा प्रस्तुत की। मोदी ने बताया कि विपणन प्रबंधन पर लिखित इस पुस्तक में किसी भी उत्पादक द्वारा अपने सामान को बाजार में खपाने और उपभोक्ताओं में लोकप्रिय बनाने के विपणन प्रबंध के लिये 22 अध्यायों में इस विधा के प्रत्येक बिन्दु को वृहद् तरीके से विवेचित करता है। यह पुस्तक बाजार अन्वेषण और विपणन अनुसंधान प्रक्रिया के महत्व को भी वर्तमान परिदृश्य में वर्णित करता है। 21वीं सदी की विपणन रणनीति के विभिन्न पहलुओं को बताते हुये यह पुस्तक योजना निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उन्होंने बताया कि उपभोक्ता मूल्य संतृप्ता एवं उपभोक्ता क्रय क्षमता को प्रभावित करने वाले तत्वों का इसमें पूर्ण उल्लेख किया गया है। वर्तमान परिदृश्य में बाजार खंडीकरण एवं प्रतिद्वंद्विता के महत्व को विभिन्न समसामयकि उदाहरणों सहित बताया गया है। पुस्तक में बा्रंड, बा्रंड इक्विटी एवं इसका बाजार में निर्माण के प्रकार को बताया गया है। बाजार में अपनी रणनीतियों एवं संदेशों को सम्पे्रषित करने की कला का उल्लेख प्रभावी ढंग से किया गया है। इसमें वर्तमान स्थिति में कार्पोरेट की सामाजिक जिम्मेदारी के महत्व को बताया गया है। समीक्षा वक्तव्य के बाद पुस्तक पर चर्चा आयोजित की गई, जिसमें डा. प्रगति भटनागर, अभिषेक चारण, बलवीर सिंह, अभिषेक शर्मा, शेरसिंह राठौड़, मांगीलाल आदि ने भाग लिया। अंत में प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने आभार ज्ञापित करते हुये बताया कि बुक-रिव्यू में सभी प्राध्यापकों को पाठ्यपुस्तकों के अलावा अन्य महत्वपूर्ण पुस्तकों को पढने और समझने तथा उनकी समीक्षा के प्रसतुतिकरण का अवसर मिलेगा, जो सबके लिये लाभदायक सिद्ध होगा। कार्यक्रम का संयोजन सोमवीर सांगवान ने किया।

Read 217 times

Latest from