जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में गूगल क्लासरूम की उपयोगिता और तकनीक पर व्याख्यान आयोजित

सोशल डिस्टेंसिंग में ऑनलाइन कक्षाओं के लिये गूगल क्लासरूम का महत्व

लाडनूँ, 11 सितम्बर 2020। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में आंतरिक व्याख्यान श्रृंखला के अन्तर्गत शुक्रवार को प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठीकी अध्यक्षता में व्याख्यान का आयोजन किया गया। व्याख्यान श्रृंखला के प्रािम व्याख्यान के रूप में डाॅ. प्रगति भटनागर ने गूगल क्लासरूम द्वारा आॅनलाईन पढाई के बारे में अपना व्याख्यान प्रस्तुत किया। उन्होने कूगल क्लासरूम एप्प के जरिये अध्ययन-अघ्यापन के विविध आयामों एवं तकनीक के बारे में जानकारी दी। डाॅ. भटनागर ने बताया कि आवश्यकता आविष्कार की जननी है। आज सभी पाठ्यक्रमों एवं सेमिनारों तक के ऑनलाइन किये जाने की जरूरत है। गूगल क्लासरूप एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिस पर अलग-अलग कक्षाओं का संचालन किया जा सकता है। क्लासरूम के ऑननलाईन मैनेजमेंट के लिये इस प्लेटफार्म की अपनी खूबियां हैं। उन्होंने गूगल क्लासरूम में कक्षा क्रियेट करने, उसे नाम देकर जेनरेट करने, विद्यार्थियों द्वारा जाॅइन करने, कोड एंटर करने, टाॅपिक जोड़ने, शिक्षक को आमंत्रित करने, पाठ्य सामग्री जोड़ने, उसे पोस्ट करने, असाइनमेंट बनाने, डोक्यूमेंट्स क्रियेट करने आदि विविध पहलुओं पर विस्तार से प्रकाश डाला और उसे स्मार्ट बोर्ड पर पे्रक्टिकली बताया। उन्होंने बाद में इस सम्बंध में उपस्थित लोगों की जिज्ञासाओं एवं सवालों के जवाब भी दिये। प्रारम्भ में प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने विषय के सम्बंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह समय की आवश्यकता है कि कुछ नया सीखा जावे। सोशल डिस्टेंसिंग के चलते ऑनलाइन कक्षाओं का महत्व बढ गया है। इस सम्बंध में विभिन्न तकनीकियों के बारे में सबके लिये जानकारी आवश्यक है। उन्होंने शुरू की गई व्याख्यानमाला की जानकारी दी और बताया कि इसमें प्रत्येक 15 दिन पश्चात किसी नये निर्धारित विषय पर व्याख्यान का आयेाजन किया जायेगा। कार्यक्रम का संचालन समन्वयक सोमवीर सांगवान ने किया। इस अवसर पर डाॅ. बलवीर सिंह चारण, डाॅ. विनोद सैनी, श्वेता खटेड़, अभिषेक चारण, कमल कुमार मोदी आदि उपस्थित रहे।

Read 245 times

Latest from