राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) की दोनों इकाइयों के संयुक्त तत्वावधान में ‘बाल दिवस कार्यक्रम’ आयोजित

सफलता के लिए जरूरी है समयबद्धता- प्रो. त्रिपाठी

लाडनूँ, 13 नवम्बर 2021। जैन विश्वभारती संस्थान विश्वविद्यालय में भारत सरकार तथा विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के निर्देशानुसार कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़ के निर्देशन में आयोजित किए जा रहे ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ के कार्यक्रमों की श्रृंखला के तहत राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) की दोनों इकाइयों के संयुक्त तत्वावधान में ‘बाल दिवस कार्यक्रम’ आयोजित किया गया। दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के निदेशक तथा आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. आनंद प्रकाश त्रिपाठी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पं. जवाहरलाल नेहरू के व्यक्तित्व एवं योगदान पर विचार प्रस्तुत किए और कहा कि प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में बाल्यकाल में तनावमुक्त जीवन जीता है तथा यह उसके विकास की अवस्था होती है। हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य है कि बाल्यावस्था में ही बच्चों को उसके अनुरूप अवसर मिले। इसके साथ ही उन्होंने छात्राओं को प्रेरित करते हुए कहा कि किसी भी काम को निर्धारित समय पर पूरा करने की प्रतिबद्धता रखने से ही सफलता के मार्ग पर आसानी से अग्रसर हो सकते हैं। प्रारम्भ में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई प्रथम प्रभारी डॉ. प्रगति भटनागर ने संविधान निर्माण, राष्ट्रीय आंदोलन तथा राष्ट्र विकास में पंडित जवाहरलाल नेहरू के योगदान तथा बाल दिवस के आयोजन के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में संस्थान की छात्राओं में हेमपुष्पा चौधरी, पूनम राय, इशिता राजपुरोहित, पूजा इनाणिया, विशाखा, योगिता, नंदिनी जांगिड़ तथा अभिलाषा ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम में अच्छी प्रस्तुति देने पर प्राचार्य प्रो. आनंद प्रकाश त्रिपाठी ने हेमपुष्पा चौधरी तथा पूनम राय को संस्थान का प्रतीक चिन्ह भेंट कर पुरस्कृत भी किया। कार्यक्रम में सहायक आचार्य अभिषेक चारण ने भी कविता के माध्यम से अपने भावों की अभिव्यक्ति दी। अंत में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वितीय प्रभारी डॉ. बलबीर सिंह ने सभी का आभार ज्ञापित किया। कार्यक्रम में श्वेता खटेड़, अभिषेक शर्मा, डॉ विनोद कुमार सैनी, देशना चारण आदि के साथ संस्थान के अनेक विद्यार्थी भी उपस्थित रहे।

Read 879 times

Latest from